भारत की 10 सबसे ज्यादा सैलरी वाली प्राइवेट नौकरियां, IAS-IPS तो "आसपास भी नहीं

भारत की 10 सबसे ज्यादा सैलरी वाली प्राइवेट नौकरियां, IAS-IPS तो "आसपास भी नहीं


 


 

आईएएस का रुतबा

सबसे रुतबेदार नौकरी की बात होती है तो आईएएस और आईपीएस का नाम आता है लेकिन जब बात देश की सबसे ज्यादा सैलरी वाली नौकरियों की आती है तो ये कहीं नहीं टिकते।
 

 

सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट

सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट देश की सबसे ज्यादा सैलरी देने वाली नौकरियों में से एक है। इनकी औसत सैलरी 80 लाख रुपये सालाना से अधिक होती है।
 

 

सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट मैनेजर

सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट मैनेजर की सैलरी का अंदाजा आम आदमी के लिए लगाना भी मुश्किल है। इनकी औसतन सैलरी 124747 डॉलर यानी 77 लाख रुपये सालाना होती है।
 

 

सोल्यूशन आर्किटेक्ट

सोल्यूशन आर्किटेक्ट सॉफ्टवेयर डेवलमेंट प्रोसेस के जरिए काम करते हैं। इनकी शुरुआती सैलरी 72 लाख रुपये सालाना से अधिक होती है।

 

 एनालिटिक्स मैनजर

एनालिटिक्स मैनजर का काम डेटा एनालिसिस सोल्यूशन करना होता है। इसकी औसतन सैलरी 70 लाख रुपये सालाना होती है।
 

 

आईटी मैनेजर

आईटी मैनेजर देश की काफी लोकप्रिय नौकरी है जिसकी औसत सैलरी 70 लाख रुपये सालाना होती है।
 

 

प्रोडक्ट मैनेजर

टेक्नोलॉजी इंडस्ट्री में प्रोडक्ट मैनेजर को औसतन 68 लाख रुपये सैलरी मिलती है।
 

 

 डेटा साइंटिस्ट और सिक्योरिटी इंजीनियर

डेटा साइंटिस्ट को तकरीबन 68 लाख रुपये सालाना और सिक्योरिटी इंजीनियर को 61 लाख रुपये सालाना सैलरी मिलती है। दोनों ही कम्प्यूटर प्रोगामिंग से संबंधित इंजीनियरिंग जॉब हैं।

 


क्वालिटी मैनेजर/कम्प्यूटर हार्डवेयर इंजीनियर

टेक्नोलॉजी फील्ड में क्वालिटी मैनेजर का पद काफी अहम होता है। इसकी औसत सैलरी 60 लाख रुपये सालाना होती है। जबकि कम्प्यूटर हार्डवेयर इंजीनियर को 60 लाख रुपये सालाना तक वेतन मिलता है।

Post a Comment

Previous Post Next Post