वर्साय की संधि की आलोचना क्या है बताइये ।

 

           वर्साय की संधि की आलोचना





    एक संधि की कटु आलोचना की जाती है जो निम्न प्रकार है


1) शांति व्यवस्था में असफलता........

  यह संधि शांति की स्थापना ना कर सकी । वास्तव में अपने प्रमुख उद्देश्य में यह संदीप असफल रही । विभिन्न राष्ट्रों में परस्पर विरोध बना ही रहा । जर्मनी  से बदला लेने के प्रयास किया गया तथा उसे इतना अपमानित किया गया कि उसके अंदर भी बदले की भावना उत्पन्न हो गई। इस समय तो निराश होकर उसे संधि स्वीकार करनी पड़ी ।


2) जर्मनी की अत्यधिक हानि .......

 संधि के जर्मनी को अत्यधिक हानि हुई । वर्साय संधि ने जर्मनी के क्षेत्रफल का आठवां भाग तथा इसकी जनसंख्या 650000 कम कर दी ।इसके सारे उपनिवेश ,विदेशो में लगी हुई सारी पूंजी और संपत्ति छीन ली गई । इसकी खेती की भूमि का 15% 12% पशु और 10% कारखाने छीन लिए गए । इसकी सेनाओं को फ्रांस की सेना का आठवां भाग कर दिया गया । उपनिवेशन कोचीन जाने से रबड़ , तेल और रुई की बड़ी मात्रा इसके हाथ से निकल गई । नहीं प्रादेशिक व्यवस्था के कारण जर्मनी के उद्योग और व्यापार को अत्यधिक हानि हुई ।


3) बदले की संधि .......

 यदि एक शांति हिंदी को बदलने की संधि के नाम से पुकारा जाए तो बिना आलोचकों के अनुसार कोई अत्युक्ति न होगी । यह संधि की प्रत्येक गतिविधि का आधार प्रतिशोध की भावना थी1919 की आंधी में जर्मनी की पूर्व संध्या का बदला ले लिया गया था । उसने भी जर्मनी का यथासंभव विभाजन किया जिससे वहां पर सफल प्रजातंत्र के लिए भी बाधाएं उपस्थित हो गई । अब वह मन ही मन में प्रांत से बदला लेने के बारे में सोच विचार कर रहा था । मित्र राष्ट्रों की प्रतिशोध की भावना में ही द्वितीय महायुद्ध की पृष्ठभूमि का निर्माण कराया जिससे महान अधिनायक हिटलर का उदय हुआ । यही कारण द्वितीय महायुद्ध का प्रमुख कारण बन गया । जर्मनी के देशभक्तों ने इस संधि को खून का काडवा घूंट पीकर ही स्वीकार किया था ।


4) सहयोगियों के साथ दुर्व्यवहार .....

जर्मनी की दशा को तो इस संधि के द्वारा इतना निम्न कर दिया गया था कि वह फिर कभी अपना सिर ही न उठा सके । उसके उद्योग का विनाश , उसके साधनो पर प्रहार एवं निरीह जनता पर कठोर अत्याचार किए गए , जिससे कि वह अपना अस्तित्व को भी भूल जाए । उसके सहयोगियों के साथ भी दुर्व्यवहार किया गया । ऑस्ट्रिया के ऊपर अत्याचारों के कारण एक नवीन विशाल साम्राज्य का निर्माण हुआ जो कि यूगोस्लाविया के नाम से प्रसिद्ध है । ऑस्ट्रिया का महत्व दिन प्रतिदिन कम होता गया ।




Post a Comment

Previous Post Next Post